Home / सिख गुरु साहिबान / श्री गुरु हर राय जी का जीवन परिचय1 min read

श्री गुरु हर राय जी का जीवन परिचय1 min read

श्री गुरु हर राय जी का जीवन परिचय

श्री गुरु हर राय जी का जीवन परिचय

श्री गुरु हर राय जी क जन्म 1630 में हुआ। श्री गुरु हर राय जी सिख धर्म के सातवे गुरु थे। वे गुरु हरगोबिंद सिंह के पोते थे। वे अपने दयालु ह्रदय के लिए जाने जाते थे। 14 वर्ष की उम्र में उन्हें नानक की उपाधि प्राप्त हुई थी।

श्री गुरु हर राय का व्यक्तित्व

गुरु हर राय एक शांति प्रिय गुरु थे। अपने काल में इन्होने मुगलो के प्रति उदार व्यवहार अपनाने के कारण काफी आलोचना सही। लेकिन स्वाभाव से शांत गुरु हर राय जी चाहते थे की सही समय पर मुग़लों को जवाब दिया जाये। उनका पहला उद्देश्य सिखों को एकत्रित और आध्यात्मिक स्तर पर मजबूत बनाना था।

एक प्रसंग

स्वाभाव से शांत गुरु हर राय जी के जीवन से जुड़ा एक प्रसंग अक्सर उठता है, की क्या उन्होंने अपने बड़े पुत्र के जगह छोटे पुत्र को गुरु गद्दी पर बिठाया। कहा जाता है की एक बार गुरु हर राय जी ने दारा सिकोह, “जो की शाहजहां के बड़े बेटे और औरंगजेब के बड़े भाई थे।”  औरंगजेब के खिलाफ विद्रोह करने में मदद की। गुरु हर राय जी का कहना था की दारा सिकोह मुसीबत में थे। एक सच्चा सिख होने के नाते उन्होंने उसकी मदद की।

राम राय (गुरु हर राय के बड़े पुत्र)

इसके बाद जब औरंगजेब को यह बात पता चली तो उसने गुरु हर राय जी को सभा में बुलाया। गुरु हर राय जी ने अपने बड़े पुत्र राम राय को अपना प्रतिनिद्धि बनाकर भेजा। अपने पिता गुरु हर राय को क्षमा दिलाने के लिए राम राय ने आदि ग्रन्थ की कुछ पंक्तियों में बदलाव कर औरंगजेब को सुना दी। कहा जाता है की इन् पंक्तियों से सिख धर्म को अपमानित करने का भाव आता था। जब गुरु हर राय जी को यह बात पता चली तो वे अत्यंत क्रोधित हुए, और उन्होंने बड़े बेटे की जगह छोटे बेटे को अपनी गद्दी का उत्तराधिकारी बनाया।

श्री गुरु हर राय जी के कार्य

श्री गुरु हर राय जी के कुछ प्रमुख कार्य निम्न है। गुरु हर राय एक अद्भुत वैद्य थे। वो प्राकर्तिक चिकित्सा के प्रयोग को बढ़ावा देते थे। अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने चिड़िया घर का भी निर्माण किया। गुरु हर राय साहिब ने गुरु ग्रन्थ साहिब की मूल कविताओं को किसी भी प्रलर से तोड़ मरोड़ कर पेश करने के खिलाफ एक सख्त कानून का प्रारम्भ किया। ताकि कोई  गुरु नानक साहिब द्वारा दी गयी बुनियाद और शिक्षाओं को हानि ना पहुंचाए| गुरु हर राय की मृत्यु 1661 में हुई।

जानिए आयुर्वेद के विभ्भिन फायदे

Top 5 advantages of using herbal tablets

For more blogs visit AYURVEDA GYAN

About Deepika Bhatt

Check Also

गुरु हर कृष्ण साहिब जी

गुरु हर कृष्ण साहिब जी

गुरु हर कृष्ण साहिब जी Table of Contents गुरु हर कृष्ण साहिब जीगुरु हर कृष्ण …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *