Home / प्रसिद्ध कथाएँ / तेनालीराम की कथाएँ / तेनाली रामा और बिल्ली1 min read

तेनाली रामा और बिल्ली1 min read

तेनाली रामा और बिल्ली

तेनाली रामा और बिल्ली

एक बार विजयनगर के राजा कृष्णदेव राइ के महल में चूहों की भरमार लग गयी। राजा ने आज्ञा दी हर एक घर में एक बिल्ली पालनी ही चाहिए और कहा हर एक घर में एक गाए दे दो ताकि बिल्ली को दूद मिलता रहे। तेनाली रामा यह सुन के नाराज हो गए उनके विचार से ऐसा कुछ करना जरुरी नहीं था। फिर उन्हें एक युक्ति सूझी पहले ही दिन उन्होंने बिल्ली के सामने उबलते हुए दूध की कटोरी रख दी बिल्ली ने जैसे ही उसमे दूध डाला उसका मुँह जल गया और वह वहाँ से तुरंत भाग गयी।

महाराज पुरे राज्य में बिल्लियों को देखने के लिए गाये और सब बिल्ली को दूध पीला रहे है यह देखकर बहुत खुश हुए। महाराज फिर तेनाली रामा के घर में गए और देखा की तेनाली राम की बिल्ली बहुत ही दुबली पतली है महाराज ने तेनाली राम से कहा की तेनाली तुम अपनी बिल्ली को दूध नहीं पिलाते, तो तेनाली रामा ने कहा की महाराज मेरी बिल्ली तो दूध पीती ही नहीं है तब महाराज ने कहा ऐसा कैसे हो सकता है फिर महाराज ने आदेश दिया की बिल्ली के लिए दूध मंगाया जाये जैसे ही बिल्ली के सामने दूध रखा बिल्ली वह से भाग गयी महाराज समझ गए और उन्होंने तेनाली रामा को बंधी बनाने का हुक्म दे दिया और कहा की तेनाली रमा को सौ कोठे लगाए जाये। तेनाली रमा ने सर झुकाके कहा की महाराज हमारे राज्य में लोगो के पास पीने को दूध नहीं है और हम बिल्ली को दूध पिलाये।

अब जाके महाराज को पूरी बात समझ में आयी और उन्होंने तेनाली रामा को माफ़ कर दिया। और आज्ञा दी की उस गए का उपयोग अपने और अपने घर वालो के लिए किया जाये। बिल्ली तो अपना पेट चूहे खा के भी भर सकती है।

शिक्षा: मनुष्य सेवा ही सबसे बड़ी सेवा है।

10 Amazing Homemade Face Mask for Acne

For Similiar Blogs Visit:Ayurvedagyan.com

About Versha Bhatt

Check Also

श्री-कृष्ण-की-मृत्यु

श्री कृष्ण की मृत्यु (भाग-1)

श्री कृष्ण की मृत्यु जो व्यक्ति इस धरती पर जन्म लेता है उसकी मृत्यु निश्चित …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *