Home / प्रसिद्ध कथाएँ / बादशाह अकबर और बीरबल की कथाएँ / अकबर बीरबल और बाग़ से चोरी1 min read

अकबर बीरबल और बाग़ से चोरी1 min read

अकबर बीरबल और बाग़ से चोरी

बीरबल को प्रकृति से प्रेम था। वह जायदा समय बाहर ही बिताया करते थे। उनकी सबसे पसन्दीदार जगह थी बादशाह अकबर का शाही बाग़। इस शाही बाग़ की देखभाल नीर नामक व्यक्ति किया करता था। वह बहुत ही शांत किस्म का इंसान था और बहुत साधारण सा जीवन जीता था। उसे बाग की देखभाल करने में बहुत आनन्द प्राप्त होता था। बीरबल और नीर में बहुत गहरी मित्रता थी। वे अकसर बाग़ के पेड़ पौधों व फूलों की बातें किया करते थे।

एक बार की बात है बीरबल जब शाही बाग में टहल रहे थे उन्होंने आस पास देखा उन्हें कही भी नीर नज़र नहीं आया। कुछ देर ढूंढने के बाद उन्हें बाग़ के एक कोने से रोने की आवाज़ सुनाई दी। जब उन्होंने वह जाकर देखा तो नीर एक पेड़ के नीचे बैठा रो रहा था। बीरबल ने नीर से पूछा नीर क्या हुआ?

नीर ने उत्तर दिया कुछ नहीं! बीरबल बोले तुम यहां बैठे ज़ोर ज़ोर से रो रहे हो और कह रहे हो कुछ नहीं! मित्र बताओ मुझे क्या हुआ? नीर ने कहा हुज़ूर में अपने बुढ़ापे के लिए पैसे बचा रहा था। एक मटके में दाल कर इस पेड़ के नीचे छुपता आया हूँ। मैं बीस साल से इसे बचा रहा हूं और आज जब मैंने मटका निकालने के लिए जब खुदाई की तो मुझे मटका यहा नहीं मिला। मेरा पैसा किसी ने चुरा लिया। मैं बर्बाद हो गया अब आप ही बताओ मैं क्या करूँ?

बीरबल बोले तुमने यहाँ पैसा क्यों छुपाया? तुमने पैसों को घर पर क्यों नहीं रखा? नीर ने उत्तर दिया मुझे लगा यह जगह ज़ायदा सुरक्षित रहेगी और मैं अपना सारा समय भी यही बताता हूँ इसलिये मैने यहां छुपा के रखा। तो फिर चोर वही है जिसको तुमने इस बारे में बताया होगा बीरबल ने बोला। मैंने किसी को भी नहीं बताया नीर ने उत्तर दिया।

तो फिर तुम्हें किसी ने यहां पैसे रखते हुए देख लिया होगा। पर हुज़ूर इस बाग़ में तो आपके, बाद्शाह के और उनके कुछ मंत्रियों के अलावा किसी का भी आना मना है। बीरबल ने कुछ देर सोचा और कहा तुम मुझे थोड़ा वक़्त दो मैं तुम्हारे पैसे ढून्ढ लुँगा। तम घबराओ मत। यह कह कर बीरबल वहां से चला गया।

बीरबल सोचने लगा की जब किसी को पता ही नहीं है पैसो के बारे में तो कोई कटहल के पेड़ के नीचे क्यों खोदेगा? बहुत देर तक सोचने के बाद वह इस निष्कर्ष पर पंहुचा की कोई वैद्य या हकीम दवा बनाने के लिए वह खोद सकता है!

बीरबल बादशाह अकबर के दरबार में पहुंचे उन्होंने बादशाह को सारी बात बताई और कहा, मैं दरबारियों से एक प्रश्न पूछना चाहता हूँ! अगर इससे चोर का पता लगता है तो तुम्हें जो पूछना है पूछे बादशाह ने कहा। बीरबल ने कहा क्या आप में से कोई अजकल दवा ले रहा है? अकबर बोले ये कैसा प्रश्न है! बीरबल किसी के दवा लेने से चोर का पता कैसे लगेगा?

अकबर बीरबल और बाग़ से चोरी

मैं आप सभी को समझाऊंगा बीरबल बोले। बीरबल के दुबारा प्रश्न करने पर एक दरबारी बोले की मुझे कब्ज की परेशानी है और मैं वैद्य राज जी से दवा ले रहा हूँ। बीरबल ने कहा बाद्शाह मैं वैद्य राज जी को दरबार में बुलाने की इज़ाज़त चाहता हूँ। इज़ाज़त है! बादशाह बोले।

वैद्य राज जी दरबार में आये। बीरबल ने उनसे कहा, मुझे बहुत समय से कब्ज़ की बीमारी है। वैद्य राज जी ने बोला आप निश्चिन्त रहे। आपको एक ऐसी जड़ीबूटी दूंगा जिससे आपकी ये बिमारी हमेशा के लिए सही हो जाएगी। बीरबल बोले क्या आप मुझे बता सकते हैं कि ये जड़ीबूटी कैसे बनती है?

इसपर वैद्य जी बोले किसी और ने अगर ये प्रश्न पूछा होता तो शायद मैं उसको नहीं बताता पर आप पूछ रहे हैं तो मैं आपको बता सकता हूँ। ये जड़ीबूटी कटहल के पेड़ की जड़ के पानी से बनती है। बीरबल ने कहा तब तो मुझे और जायदा समय तक इंतज़ार करना पड़ेगा। आपको इस राज्य में जड़ी बूटी कहाँ मिलेगी? आप चिंता न करें हुज़ूर। शाही बाग़ में कटहल का पेड़ है मैं वह जा कर जड़ ले लूंगा।

यह सुनते ही बीरबल बोले मैं तुम्हें एक मौका देता हूँ सच बोलने का और नीर के पैसे वापस लौटाने का। यह सुन कर वैद्य दंग रह गया और उनसे अपनी गलती मान ली। सभी से माफ़ी मांग कर उसने नीर के पैसे वापस लौटा दिए।

Apricot Nutrition : 10 amazing Benefits

For Similiar Blogs Visit AyurvedaGyan.in

About Chyanika Pandey

Check Also

तेनाली रामा और बिल्ली

तेनाली रामा और बिल्ली

तेनाली रामा और बिल्ली एक बार विजयनगर के राजा कृष्णदेव राइ के महल में चूहों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *